अमृत रंजन | Amrut Ranjan

तुम्हारे साथ और ख़िलाफ़ | with & against you

प्रकाशन | Publications


कविताएँ | Poems

बहाना, क्या तुम बस एक शाम की बरसात थी?, मौसम, कुछ सुनाई दिया?
अव्वल सपनों की दुनिया, मन की जमीन, दिल के पन्ने और अन्य
तुम्हारे सात दुपट्टे, टूटे सात रंग, डर का बीज, झूठ की दास्तान
शाम, खुशी का ज़ीना, ज़िन्दा-मुरदा, मौत
सपना, सफ़र बिना लक्ष्य के, भोर, खून
कागज़ का टुकड़ा, रात, अगर हम उसके बच्चे हैं, चिड़िया
और मैं?, समय, प्रतिधारा, मेल, असंभव, लापता

कहानी | Story

पांचवीं क्लास की डायरी

निबंध | Essays

अंधेरे से डरना क्यों
शुरुआत ‘कुछ नहीं’ है
अंत जिज्ञासा है
बिजली भगवान का क्रोध नहीं है और बच्चे पेड़ से नहीं गिरते हैं!

समीक्षा | समीक्षा

7वीं के छात्र ने किया चेतन भगत की किताब ‘हाफ गर्लफ्रेंड’ का रिव्यू
‘हाफ गर्लफ्रेंड’ से क्या सीख मिलती है?